जिला स्तरीय सतर्कता एवं मानिटरिंग समिति की बैठक में की गई 70 प्रस्तावों की समीक्षा मुआवजा के लिए आधार, बैंक खाता, जाति प्रमाण पत्र अनिवार्य

जिला स्तरीय सतर्कता एवं मानिटरिंग समिति की बैठक में की गई 70 प्रस्तावों की समीक्षा मुआवजा के लिए आधार, बैंक खाता, जाति प्रमाण पत्र अनिवार्य

जिला स्तरीय सतर्कता एवं मानिटरिंग समिति की बैठक में की गई 70 प्रस्तावों की समीक्षा मुआवजा के लिए आधार, बैंक खाता, जाति प्रमाण पत्र अनिवार्य*

धनबाद के उपायुक्त उमा शंकर सिंह की अध्यक्षता मेंअनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत जिला स्तरीय सतर्कता एवं मानिटरिंग समिति की बैठक समाहरणालय के सभागार में आयोजित की गई।

बैठक में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति अत्याचार से राहत के लिए मुआवजा प्राप्त करने के 70 प्रस्तावों की समीक्षा की गई।

समीक्षा के पश्चात उपायुक्त ने कहा कि मुआवजा के लिए पीड़ित व्यक्ति से आधार कार्ड, बैंक खाता और जाति प्रमाण पत्र अनिवार्य रूप से प्राप्त करना है। जाति प्रमाण पत्र को अंचल अधिकारी से सत्यापित कराना है। समीक्षा के दौरान तीन असंज्ञेय मामलों के लिए उपायुक्त ने विभाग से मार्गदर्शन प्राप्त करने का निर्देश जिला कल्याण पदाधिकारी को दिया। साथ ही हर 3 माह में बैठक करने तथा कुछ लंबित मामलों की रिपोर्ट संबंधित अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी को शीघ्र उपलब्ध कराने का निर्देश दिया।

बैठक में उपायुक्त श्री उमा शंकर सिंह, सिटी एसपी श्री आर रामकुमार, अपर समाहर्ता श्री श्याम नारायण राम, अपर समाहर्ता (आपूर्ति) श्री संदीप कुमार दोराईबुरू, जिला कल्याण पदाधिकारी श्री दयानंद दुबे, माननीय विधायक टुंडी श्री मथुरा प्रसाद महतो, माननीय सांसद धनबाद के प्रतिनिधि श्री नितिन भट्ट, माननीय सांसद गिरिडीह के प्रतिनिधि श्री गिरधारी महतो, माननीय विधायक झरिया के प्रतिनिधि श्री के.डी. सिंह, माननीय विधायक सिंदरी के प्रतिनिधि श्री निताय रजवार, माननीय विधायक धनबाद के प्रतिनिधि श्री कपिल देव पासवान, भारतीय रेड क्रॉस सोसाइटी धनबाद के सचिव श्री कौशलेंद्र कुमार, रोटरी क्लब के सदस्य, गैर सरकारी सदस्य श्री मिथिलेश कुमार राम, श्री समीर कुमार मुर्मू, श्री गुरु चरण बक्शी, श्रीमती राय मुनी देवी व अन्य लोग शामिल थे।

administrator

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *