निवास पर गोपाष्टमी के अवसर पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मध्यप्रदेश की प्रथम गोकैबिनेट की बैठक।

निवास पर गोपाष्टमी के अवसर पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मध्यप्रदेश की प्रथम गोकैबिनेट की बैठक।

निवास पर गोपाष्टमी के अवसर पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मध्यप्रदेश की प्रथम गोकैबिनेट की बैठक।

निवास पर गोपाष्टमी के अवसर पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मध्यप्रदेश की प्रथम गौ-कैबिनेट की बैठक ली। खेती और गाय का नाता ऐसा है कि जिसको एक-दूसरे से अलग किया ही नहीं जा सकता है। गौ-संरक्षण व संवर्धन के लिए हम कृषि विभाग, पंचायत एवं ग्रामीण व संबंधित सभी विभागों का सहयोग लेंगे। जो भी विभाग उपयोगी हो सकते हैं, उनको जोड़ेंगे और गौ संरक्षण के लक्ष्य को प्राप्त करेंगे।

गौ-वंश के संरक्षण और संवर्धन का काम श्रद्धा के कारण भी हम कर रहे हैं। साथ ही पर्यावरण बचाने, फसलों का उत्पादन बढ़ाने, तथा कुपोषण दूर करने के लिए भी हम यह कार्य कर रहे हैं। गौ-काष्ठ बनाकर हम उसका उपयोग हम अंतिम संस्कार में कर सकते हैं। कंडे और खाद भी बिकते हैं। गौ-मूत्र से कीटनाशक एवं कई औषधियां भी बनाई जाती हैं। यदि गाय दुधारू नहीं है, तो भी गोबर और गौ-मूत्र का उपयोग कर हम इनका लाभ उठा सकते हैं।

administrator

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *