राष्ट्रीयमतदातादिवस

राष्ट्रीयमतदातादिवस

हम साल के पहले महीने में हैं और सबसे महत्वपूर्ण राष्ट्रीय घटनाओं में से एक जो है वह है हमारा गणतंत्र दिवस। लेकिन एक और महत्वपूर्ण दिन इसी महीनेमें आता है, जो है राष्ट्रीय मतदाता दिवस। यह भारतीय लोकतंत्र का एक महत्वपूर्ण दिन है। इस दिन का उद्देश युवा भारतीय मतदाताओं को लोकतांत्रिक राजनीतिक प्रक्रिया में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करना है। भारत सरकार ने 2011 ई . से हर साल 25 जनवरी को “राष्ट्रीय मतदाता दिवस” के रूप में मनाने का फैसला किया। 25 जनवरी को राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाया जाता है क्योंकि 25 जनवरी 1950 को, हम गणतंत्र राष्ट्र बनने के एक दिन पहले; चुनाव आयोग की स्थापना हुई थी। हम 2011 से यह दिन मना रहें है| राष्ट्रीय मतदाता दिवस का विचार एक आम वोटर कैप्टन चाँद ने साल 2010 में दिया था। चुनाव आयोग ने सुझाव स्वीकार किया और इसमें सुधार करके 25 जनवरी को राष्ट्रीय मतदाता दिवस शुरू किया| 2011 में यह पहिली बार मनाया गया, इस साल हम 9 वां राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनायेंगे| पहले मतदाता की पात्रता आयु 21 वर्ष थी, लेकिन 1988 में इसे 18 साल तक घटा दिया गया था। इस बदलाव को शामिल किया गया क्योंकि दुनिया भर के कई देशों ने आधिकारिक मतदान उम्र के रूप में 18 वर्षकी सिमा को अपनाया था। उसी समय भारतीय युवा साक्षर और राजनैतिक रूप से जागरूक हो रहा था। 61वे विधेयक संशोधन, 1988 ने भारत में मतदाता की पात्रता उम्र कम कर दिया। भारत की 50% से अधिक आबादी 35 साल के उम्र के निचे की है और इसका एक बड़ा हिस्सा 18 साल का पड़ाव पार कर रहा है। उन्हें जागरूक करना और लोकतांत्रिक प्रक्रिया का हिस्सा बनाना बहुत महत्वपूर्ण है। उन्हें अपने अधिकारों और दायित्वों का एहसास कराना बहुत जरूरी है| इस तरह से हम लोकतंत्र में लोगों की भागीदारी बढ़ा सकतें है। आपका वोट नए भारत का आधार साबित होगा| वोट की शक्ति लोकतंत्र की सबसे बड़ी ताकत है| लाखों लोगों के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाने के लिए मतदान सबसे प्रभावी उपकरण है……

हम साल के पहले महीने में हैं और सबसे महत्वपूर्ण राष्ट्रीय घटनाओं में से एक जो है वह है हमारा गणतंत्र दिवस।

administrator

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *