#लॉक #डाउन में 35 फीसदी #शराब की #बिक्री #घटी संघ की मांग माल उठाव पर ही लिये जाए #इटीडी अन्यथा #लाइसेंस #सरेंडर करेंगे शराब #विक्रेता

#लॉक #डाउन में 35 फीसदी #शराब की #बिक्री #घटी संघ की मांग माल उठाव पर ही लिये जाए #इटीडी अन्यथा #लाइसेंस #सरेंडर करेंगे शराब #विक्रेता

#लॉक #डाउन में 35 फीसदी #शराब की #बिक्री #घटी संघ की मांग माल उठाव पर ही लिये जाए #इटीडी अन्यथा #लाइसेंस #सरेंडर करेंगे शराब #विक्रेता

धनबाद। झारखण्ड खुदरा शराब विक्रेता संघ ने सरकार को अवगत कराया है कि झारखंड में आठ अप्रैल से जारी आंशिक लॉकडाउन में शराब का कारोबार बुरी तरह प्रभावित हो रहा है। पहले की अपेक्षा शराब की बिक्री 30 से 35 फीसदी तक घटी है। ऐसे में सरकार द्वारा फिक्स मासिक एक्साइज ट्रांसपोर्ट ड्यूटी (इटीडी) देना संभव नही है। संघ चाहती है कि लॉक डाउन अवधि तक इटीडी केवल माल उठाव पर लेने की अनुमति जारी करे अन्यथा राज्य भर के खदरा शराब विक्रेता लाइसेंस सरेंडर करने को बाध्य होंगे। संघ की ओर से कहना है कि आंशिक लॉक डाउन में शराब दुकानों को रात्रि आठ बजे से बंद करने के निर्देश दिए गए है। इसके बावजूद सरकार की ओर से एक्साइज टैक्स में कमी नहीं की जा रही है। यह शराब दुकानदारों के लिए परेशानी साबित हो रही है।
ग्राहक अपनी दिन भर की ड्यूटी निपटाकर सारे काम करने के बाद शाम 7 बजे से ही दूकानों पर आना शुरू होते है। ऐसे में दुकान खुले रखने का समय महज एक घण्टा ही रह जाता है। 7 से 10 बजे तज दुकाने खुली रहने पर ही बिक्री अपेक्षा अनुसार सम्भव है।
सिर्फ एक घंटे पिक ऑवर में दुकानदारी करने का मौका मिल रहा है, लेकिन कोरोना के कारण उस दौरान भी बिक्री कम हो रही है। वहीं सरकार के स्तर से प्रत्येक माह की 25 तारीख को एक्साइज टैक्स ई वैलेट से स्वत: काट लिया जाता है। इससे शराब व्यापारी परेशानी में हैं।

administrator

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *