स्वच्छता को मुह चिढ़ाता कुमारधुबी बाजार।

स्वच्छता को मुह चिढ़ाता कुमारधुबी बाजार।

*स्वच्छता को मुह चिढ़ाता कुमारधुबी बाजार।*

निरसा। इन दिनों कुमारधुबी बाजार में स्वछता अभियान की पोल खोल रही है कुमारधुबी बाजार एग्यारकुण्ड प्रखण्ड के दक्षिण पंचायत पर स्थित है तथा आसपास के क्षेत्रों का बड़ा बाजार माना जाता है कुमारधुबी बाजार में वैसे तो प्रतिदिन हाट लगती है मगर सप्ताहिक में दो दिन रविवार एवं गुरुवार को काफी दूर दराज के लोग खरीदारी को कुमारधुबी बाजार आते है। इस पंचायत से सटे चिरकुंडा नगर परिषद क्षेत्र भी है मगर आलम यह है कि हल्की बारिश के दौरान कुमारधुबी बाजार में पैदल चला भी मुश्किल हो जाता हैं।गंदगी लगने की सबसे बड़ी समस्या यह है कि कुमारधुबी के सारा कचड़ा आसपास फेक दिया जाता है कचड़ा फेकने को लेकर कोई समुचित व्यवस्था नही हैं।पूर्व में बाजार समिति द्वारा कुछ देख रेख की जाती थी परंतु बाजार समिति के भंग हो जाने के बाद से बाजार का देखभाल रामभरोसे हैं।सब्जी एवं फल विक्रेताओ द्वारा ज्यादा गन्दगी फैलाई जाती हैं सड़ा, गला बचा सब्जी एवं फलों को फेक दिया जाता है जिसके कारण गन्दगी बढ़ते चला जा था है और सबसे बड़ी बात यह है कि कुमारधुबी बाजार एवं न्यू रोड़ के रास्ते प्रतिदिन हजारों लोग कुमारधुबी बाजार आते है और तो ओर इन्ही रास्ते होकर कुमारधुबी ओपी,कुमारधुबी क्लब एवं मेकेनिकल भारत सायाजी एवं दर्जनों छोटी छोटी रिफेक्ट्री है पर आज तक इस समस्यओं के निदान के लिए जनप्रतिनिधि ,प्रशासन एवं उधोगपति आगे नहीआये है।इसी दुर्गन्ध रास्ते होते हुए अपने प्रतिष्ठान एवं अपने गंतब्य को जाते है। आब जनता मुक्त में बिमारी पा रहे है। राहगीर कचरों के ढेर पर जिंदगी गुजारने को मजबूर हैं।
लोगों को महामारी फैलने का डर सता रहा है। स्थानीय लोगों ने कहा कि एक तरफ कोरोना से डरे हुए हैं,वहीं दूसरी ओर इन कचरो से घिरे हुए हैं। जनप्रतिनिधि आश्वासन देते हैं। ऐसा लगता है आज आम जनता की सुनने वाला कोई नहीं है।जबकि पंचायत के समीप रखा कचरे का डब्बा खुद कचरे में तब्दील हो चुका है। आम लोगों को तो अब हर वक्त बीमारी फैलने की डर सता रहा है।
इस संबंध में शिकायत करने पर स्थानीय मुखिया सिर्फ आश्वासन देते हैं।
वही शिवलीबाड़ी दक्षिण मुखिया संतोष साव ने बताया कचरे को साफ किया जाता है। पर बाजार के लोगों द्वारा फिर से गंदगी फैला दिया जाता है। साफ और स्वच्छ रखने के लिए सभी को जागरूक होना पड़ेगा। साथ ही मुखिया ने स्वच्छता के लिए प्रशासन से मदद की गुहार लगाया है।

administrator

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *